बुलाती है मगर जाने का नइ / Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai - Rahat Indori (Poetry Ghazal)

आपका हार्दिक अभिनन्दन...

पेश है Dr. Rahat Indori का मशहूर ग़ज़ल "Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai" का लिरिक्स | जिसे बड़े ही खुबसूरत अंदाज़ में Rahat Indori के द्वारा लिखा और बोला गाया है |

वहीँ दूसरी तरफ इस Poetry | Ghazal | Status | Shayari को सबसे पहले यू-ट्यूब के [Dr. Rahat Indori] चैनल पर लाया और दिखाया गया है |

हमने इसका लिरिक्स नीचे हिंदी में लिखा है | इसके अतिरिक्त इसका लेखन, बोल और अभिनय का संक्षेपित समीक्षा (Short Review) भी दिया गया है | आप इसे पढ़िए और अपने शब्दों में इज़हार करिए |

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Rahat Indori Ghazal
Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai - Rahat Indori (Poetry Ghazal)

हमने इसे (Devanagari font) में परिवर्तित किया है | अर्थात् Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai Hindi में लिखा गया हैं | इसके साथ-साथ हमने इसका (Image Lyrics) भी शामिल किया है |

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai in Hindi

बुलाती है मगर जाने का नइ
ये दुनिया है इधर जाने का नइ

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर मगर
हद से गुजर जाने का नइ

वबा फैली हुई है हर तरफ
अभी माहौल मर जाने का नइ

सितारें नोच कर ले जाऊँगा
मैं खाली हाथ घर जाने का नइ

वो गर्दन नापता है नाप ले मगर
जालिम से डर जाने का नइ

कुशादा ज़र्फ़ होना चाहिए
छलक जाने का भर जाने का नइ

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai in Hinglish

Bulaati hai magar jaane ka nai
Ye duniya hai idhar jaane ka nai

Mere bete kisi se ishq kar magar
Hadd se guzar jaane ka nai

Waba faili hui hai har taraf
Abhi maahaul mar jaane ka nai

Sitaare nochkar le jaunga
Main khaali haath ghar jaane ka nai

Wo gardan naapta hai naap le magar
Zaalim se darr jaane ka nai

Kushaada zarf hona chahiye
Chhalak jaane ka bhar jaane ka nai

Meaning of Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi

आप इसे ग़ज़ल कहिये या कविता या फिर शायरी कहिये | बस आप यह समझ लीजिये की यह वाक्य बहुत कुछ बयां कर रहे हैं | जिसे मै अभी संक्षेप में भावार्थ यानि शब्दार्थ बताने वाला हूँ |

साधारण शब्दों में कहा जाए तो डॉ राहत इन्दौरी ने अपने इस ग़ज़ल में सभी नौजवान लड़कों को हिदायत देने की कोशिश करी है | शायद ये बात आप भी समझ रहे हैं मै क्या कहना चाह रहा हूँ |

इस कविता का सबसे बड़ा सन्देश है नौजवान लडको को राह पर लाना | आजकल हम सभी देख रहे हैं की लड़के अपने किशोरावस्था में ही लड़की के पीछे यानी प्यार मोहब्बत के पीछे भाग रहे हैं |

नतीजन वो अपने परिवार और रोजगार से हाथ धो बैठते हैं | और इसका असली खामियाजे का पता उन्हें तब चलता है | जब उनके सर पर जिम्मेदारी आ जाती है | और वो अपने जिम्मेदारियों को संभालने में विफल हो जाते हैं |

इसलिए मै आप सभी नौजवान लड़कों से कहना चाहता हूँ की आप सबसे पहले पढ़ाई और उपलब्धि पर एकाग्रता बनाइये | जब सबकुछ आपके हिसाब से चलने लगे तब आप रिश्ते के बारे में सोच सकते हैं |

और यही चीज़ राहत इन्दौरी भी अपनी कविता "Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi" में भी समझाने की कोशिश कर रहे हैं | शुक्रिया आपका |

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi image

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nai image Rahat Indori

Review of the poetry (or) ghazal

बुलाती है मगर जाने का नहीं ये ग़ज़ल कोई नया नहीं है | बल्कि इसे कई वर्षों पहले राहत इन्दौरी ने एक कवी समेलन में बोला था | इस पोस्ट में हम आपको उस सम्मलेन की कुछ तश्वीरें भी साझा करेंगे |

यह मुशायरा कवि सम्मलेन 12 सितम्बर 2012 को दुबई के किसी ऑडीटोरीयम में पेश किया गया था | जिसमे दुनिया के नामी गिरामी कवि लोग उपस्थित हुए थे |

ऐसे में डॉ राहत इन्दोरी ने अपनी "बुलाती है मगर जाने का नहीं" ग़ज़ल के वाक्य को बोलकर पुरे समा को एकदम से बाँध दिया था | गौर-तलब है की यह कविता उस समय इतना मशहूर नहीं हुआ था | जितना की यह आज मशहूर हो रहा है |

इसके मशहूर होने के पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है | जो शायद आपको भी पता है | चलिए वो कहानी मै आपको बता ही देता हूँ |

बात दरअसल यह है की राहत जी की इस "Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi" ग़ज़ल को किसी ने टिकटॉक पर अपने अभिनय के साथ लोगों के साथ साझा कर दिया था | और देखते ही देखते ये ग़ज़ल एक दम से फ़ैल गया | और सभी मशहूर टिकटॉक अभिनेता इसे साझा करने लगे |

कुछ इस तरह से यह इतना मशहूर हो गया |

आप इसे YouTube पर देख सकते हैं | यदि यह आपको पसंद आये तो अपने दोस्तों को भी बतायें | धन्यवाद् |

Rahat Indori Kavi Sammelan Ceremony Footage

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Rahat Indori
Rizvi Group Kavi Sammelan 2012

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Rahat Indori Poetry
Rahat Indori During His Shayari

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Rahat Indori Ghazal
Special Guest in Kavi Sammelan

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Rahat Indori Shayari
Famous Poets and Lyricist in Sammelan

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi Rahat Indori Status

More related poetry like this

अब पूरी शिद्दत से मै तुझसे नफरत करुँगी

Original presentation video of Dr. Rahat Indori



एक छोटी सी गुजारिश | क्या आपको "Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi" हिंदी में लिखा अच्छा लगा | तो कृपया करके शेयर करिए | यह हमे इसी तरह से Poetry | Status | Shayari | Ghazal के Lyrics को लाने में प्रोत्साहन प्रदान करेगा |

इसका पूरा श्रेय (Credit) इसके मूल आधिकारिक मालिक को जाता है | किसी प्रकार के सुझाव/शिकायत के लिए संपर्क करें |